Headline

नवनिर्वाचित सीएम सुक्खु का दावा, सबसे अमीर राज्य बनेगा हिमाचल प्रदेश | Barkha Dutt Exclusive Interview

हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद राज्य के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खु ने मोजो स्टोरी की संपादक बरखा दत्त से भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होने और करोना संक्रमित पाए जाने, पार्टी में फूट की खबर, विपक्षी पार्टियों केऑपरेशन लोटस के दावे और अपने बचपन व छात्र जीवन को लेकर बातें की।


By Team Mojo, 9 Jan 2023


हिमाचल प्रदेश के नए मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खु ने राज्य में पार्टी की जीत, प्रियंका गांधी के प्रभाव और राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा पर जारी विवाद को लेकर बरखा दत्त से बात की। इस दौरान सुक्खु ने पुरानी पेंशन योजना और एग्जीक्यूटिव डिफेंस रिक्रूटमेंट स्कीम के बारे में भी बात की। उन्होंने भाजपा और उसके राज्य में समान नागरिक संहिता लागू करने के चुनावी वादे के बारे में भी अपने विचार रखे।

अपने कोरोना संक्रमित होने और भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होने को लेकर हुए विवाद पर सुक्खु ने कहा कि कोविड एक महामारी है, उसे लेकर इस तरह से राजनीति करना ठीक नहीं है। कांग्रेस ऐसी राजनीति में विश्वास नहीं करती। यात्रा में प्रदेश के 40 से अधिक विधायक शामिल हुए, क्या सभी संक्रमित ही पाए गए। उन्होंने कहा कि देश में जिस तरह से नफ़रत फैलाया जा रहा, उसमें यह आजादी के बाद की पहली ऐसी यात्रा है। राहुल गांधी कांग्रेस की विचारधारा को लेकर यह यात्रा कर रहे हैं। कांग्रेस ने आजादी के पहले भी ऐसी यात्राएं की है।

पुरानी पेंशन योजना और एग्जीक्यूटिव डिफेंस रिक्रूटमेंट स्कीम (ओपीएस) के सवाल पर मुख्यमंत्री सुक्खु ने कहा कि इसे हम पहली कैबिनेट में लागू करने वाले हैं। उन्होंने कहा कि पहली बार प्रदेश के नौकरीपेशा लोगों के लिए ओपीएस लागू किया जाएगा। इसके लिए पैसे के प्रबंधन के सवाल पर सुखविंदर सिंह ने कहा ओपीएस के लिए 500 करोड़ रुपए की जरूरत पड़ेगी और इसका इंतजाम हम खुद करेंगे। उन्होंने कहा कि आने वाले 10 साल में हिमाचल सबसे अमीर राज्य बनने वाला है।
समान नागरिक संहिता (यूनिफार्म सिविल कोड) के सवाल पर सुखविंदर सिंह सुक्खु ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में इसकी कोई जरूरत नहीं है। यहां 97 प्रतिशत हिंदू हैं, हिमाचल प्रदेश पहले से हिंदू राज्य है। प्रदेश की जनता ने भाजपा की हिंदुत्व विचारधारा को नकारा है और कांग्रेस को सत्ता में लाई है। लोगों ने कांग्रेस की हिंदुत्व के साथ इंसानियत की विचारधारा को तरजीह देने को चुना है।

हिमाचल के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री ने अपने बचपन को याद करते हुए बताया कि राजनीति के गुण उनमें शुरू से थे। लेकिन जिस घर में कोई राजनीतिज्ञ नहीं होता, वहां कैरियर में अनिश्चितता को देखते हुए घर का कोई नहीं चाहता कि आप राजनीति में जाएं। ऐसे में घर वाले चाहते थे कि कोई सरकारी नौकरी कर लूँ। वे हमारे भविष्य को लेकर चिंतित रहते थे।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रतिभा सिंह को मुख्यमंत्री बनाए जाने और उसे लेकर कुछ विधायकों के विरोध के सवाल पर सुखविंदर सिंह सुक्खु ने कहा कि हमारी पार्टी में कोई गुटबाजी नहीं है। मैं इसको लेकर निश्चिंत नहीं हूँ। उन्होंने विपक्षी दलों के ऑपरेशन लोटस और अन्य दावों को निराधार बताया। उन्होंने कहा कि मैंने अपने विधायकों को स्वतंत्र छोड़ रखा है, किसी को अगर कोई ऑपरेशन लोटस करना है तो करके दिखाएँ। उन्होंने कहा कि मैंने पिछली सरकार में पहली बार देखा कि कोई मुख्यमंत्री दिल्ली से रिमोट पर पार्टी चला रहा है। कांग्रेस ने स्थानीय स्तर पर चुनाव लड़ा। उन्होंने कहा कि हार या जीत गांधी परिवार की नहीं होती, वह पार्टी की होती है।

पूरा इंटरव्यू देखने के लिए लिंक पर क्लिक करें: